होम / अनुसंधान / परिचय

परिचय

सिपेट में अनुसंधान गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए एक उत्कृष्ट वातावरण है। ये केंद्र इच्छुक शोधकर्ताओं को अपने लक्ष्यों को कुशलता से आगे बढ़ाने के लिए एक आदर्श वातावरण प्रदान करते हैं। सिपेट ने 03 अनुसंधान केंद्र स्थापित किए हैं जो अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप हैं; इस प्रकार सीमावर्ती शोधकर्ताओं को देश के क्षेत्रों की आवश्‍यकताओं के अनुरूप अपने शोध संबंधी लक्ष्यों को निष्पादित करने में सक्षम बनाता है। सिपेट को प्लास्टिक्‍स इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी की विभिन्न धाराओं में कई अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं की सफल उपलब्धि के लिए वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग (डीएसआईआर), विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार और विभिन्न अन्य सरकारी संस्थानों द्वारा मान्यता प्राप्त है। सिपेट की एक प्रमुख ताकत आंतरिक रुप से परिष्कृत अनुसंधान सुविधाओं के निर्माण और पोषण की क्षमता है, जो भारत के साथ-साथ विदेशों में भी विश्‍वस्‍तरीय आर एंड डी केन्‍द्र बनने के विशेष कार्य की दिशा में काम कर रही है। इस दिशा में संस्था ने चेन्नई में पॉलिमर (एसएआरपी) में विकसित अनुसंधान के लिए विशिष्‍ट विद्यालय (सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी), भुवनेश्वर (सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) - एलएआरपीएम) और बेंगलुरु में (सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) - एपीडीडीआरएल) की स्थापना की है; ये विकसित अनुसंधान प्रयोगशालाएँ विकासशील प्रोटोटाइप पर ध्यान केंद्रित करती हैं और इंजीनियरिंग समस्याओं का समाधान ढूंढती हैं जिससे मानव जीवन की गुणवत्ता को सुधारता है।


सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) – एआरएसटीपीएस

चेन्नई में स्थित, यह केंद्र ऑटोमोबाइल, एयरोस्पेस, मेडिकल और पैकेजिंग उद्योग, उत्पाद-संकल्पना, उपकरण डिजाइन अवधारणा, प्रोटोटाइप के ई - निर्माण, लीड टाइम रिडक्शन के लिए रैपिड प्रोटोटाइप, धातु पदार्थ के लिए पुनरुद्धार इंजीनियरिंग और सौंदर्यबोध के साथ इंजीनियरिंग के लिए अभिनव उत्पाद डिजाइन और एर्गोनोमिक दृष्टिकोण पर केंद्रित है।


सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) – एलएआरपीएम

भुवनेश्वर में स्थित, केंद्र बायो पॉलिमर, ई अपशिष्ट पुनर्चक्रण, पॉलिमर कम्पोजिट, नैनो कंपोजिट, मिश्रणों की विशेषता, एलॉय, सौर सेल, बायो-सेंसर, चिकित्सा नैदानिक उपकरण और ऊर्जा उत्पादन के साथ-साथ भंडारण उपकरणों पर केंद्रित है।


सिपेट : पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) – एपीडीडीआरएल

उत्कृष्ट उद्यमशीलता वाले इको-सिस्टम, समृद्ध प्रतिभा पूल और कई मूल उपकरण निर्माताओं द्वारा संचालित, बैंगलोर शहर विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित कई वैश्विक और घरेलू खिलाड़ियों के लिए इंजीनियरिंग डिजाइन, आर एंड डी और उत्पाद विकास के लिए एक प्रमुख केंद्र के रूप में उभर रहा है। इसने उद्योग, शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं की विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अद्यतन आधुनिक उपकरणों और प्रौद्योगिकी के साथ एक ऊपर बढे हुए पॉलीमर अनुसंधान प्रयोगशाला विकसित करने की आवश्यकता को पूरा किया है। इसलिए, बैंगलोर में स्थित यह केन्‍द्र वर्तमान में विकसित पॉलिमर डिजाइन और विकास के आला क्षेत्रों में अनुप्रयोग-उन्मुख अनुसंधान के आयोजन के लिए स्थापित किया जा रहा है।

इन अनुसंधान एवं विकास केंद्रों का प्रमुख उद्देश्य, पॉलिमर उपकरण, प्रौद्योगिकी, परीक्षण, उत्पाद मूल्यांकन और व्यावसायीकरण के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के साथ-साथ स्वतंत्र रूप से अनुसंधान कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने में अनुसंधान विद्वानों और वैज्ञानिकों की सुविधा के साथ मिलकर प्रभावी ढंग से कार्य करना है।

पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) केन्‍द्र बहुआयामी "वन-स्टॉप" सुविधा के रूप में काम करता है, जिसमें 'मेक इन इंडिया' के राष्ट्रीय लक्ष्यों के अनुसार उत्पाद विकास और सतत तंत्र में व्यापक विशेषज्ञता के साथ पूर्ण-भौतिक सामग्री लक्षण वर्णन शामिल है।


अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग

अनुसंधान विचारों के अंतर्राष्ट्रीय विनिमय को बढ़ावा देने के लिए सहयोगी अनुसंधान उत्पादों के लिए निम्नलिखित प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों / संस्थानों के साथ सिपेट द्वारा एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं; संकाय / छात्र मानकों और विनिर्देशों के कार्यक्रमों और सूत्रीकरण का आदान-प्रदान करते हैं।

  • यूएनइएसपी, ब्राज़िल
  • शंघाई यूनिवार्सिटी, चीन
  • हनम यूनिवार्सिटी, दक्षिण कोरिया
  • क्यूंग ही यूनिवार्सिटी, दक्षिण कोरिया
  • द इंस्टीट्यूट ऑफ बायोपॉलिमर्स एंड केमिकल फाइबर, लॉड्ज़, पोलैंड
  • दि सीआईएटीईक्‍यू, ए.सी. एड्वान्‍स्‍ड टेक्‍नोलॉजी सेन्‍टर
  • टोरंटो यूनिवार्सिटी, (UoT), कनाडा
  • मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी (MSU), ईस्ट लांसिंग, यूएसए
  • पेन स्टेट यूनिवर्सिटी, पेंसिल्वेनिया, यूएसए
  • यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स (UMass), लोवेल, यूएसए
  • एएसटीएम इंटरनेशनल, फिलाडेल्फिया, यूएसए
  • मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी), यूएसए
  • यूनिवर्सिटी ऑफ गुएल्फ, कनाडा
  • यूरोपीय बायो-प्लास्टिक्‍स और अंतर्राष्ट्रीय बायोडिग्रेडेबल उत्पाद संस्थान, यूरोप
  • यूरोपीय हायर इंस्टीट्यूट फॉर द एंटरप्राइज एंड इट्स टेक्निक्स (ISEETECH), मेट्ज़-फ्रांस
  • यूनिवर्सिटी ऑफ ब्यूनस आयर्स (यूबीए), अर्जेंटीना

इन सहयोगात्मक प्रयासों के परिणामस्वरूप पेट्रोकेमिकल्‍स उन्‍नत अनुसंधान स्‍कूल (एसएआरपी) में कई शोध कार्य किए गए हैं, जिसने भारत और विदेशों में प्लास्टिक उद्योगों को निम्नलिखित में काफी मदद की है:

  • नई पीढ़ी के पॉलिमर सामग्री का उपयोग
  • भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रत्येक प्रमुख क्षेत्रों में नए प्लास्टिक उत्पादों का परिचय

सिपेट में और अधिक नई सामग्रियों के साथ-साथ उत्पादों को विकसित करने, किफायती आयात प्रतिस्थापन विकसित करने और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की उच्च गुणवत्ता वाली बौद्धिक संपदा विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करना जारी रहेगा; जो निश्चित रूप से प्लास्टिक उद्योगों और संबद्ध उद्योगों के लिए लाभप्रदायक होगा।

सिपेट इस प्रकार अपनी उपलब्धि के माध्यम से अच्छी तरह से स्थापित प्रसिद्धि के साथ साथ प्लास्टिक्‍स के क्षेत्र में नयी विचारों के साथ उच्च अनुसंधान और विकास संगठन के रूप में विकसित हुआ है। यह संगठन सरकार के साथ-साथ देश के भीतर और दुनिया भर में प्रमुख मुद्दों को हल करने में अपनी विशेषज्ञता लगातार प्रदान करता है। इस संबंध में, सिपेट ने दुनिया भर में प्लास्टिक उद्योग में एक स्थायी स्थान बनाया है।


अंतिम नवीनीकरण: 22-02-2021

© सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) के स्‍वयं का विषय वस्‍तु। सर्वाधिकार सुरक्षित।

सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) द्वारा डिज़ाइन करके विकास किया गया और संधृत

Facebook Page : External website that opens in a new window    Twitter Page : External website that opens in a new window    Youtube Page : External website that opens in a new window