About Us
होम / हमारे बारे में / विहंगावलोकन

विहंगावलोकन

केंद्रीय पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्‍थान (सिपेट) (पहले सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ प्‍लास्टिक्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) के नाम से जाने जाते थे) की स्थापना 1968 में भारत सरकार द्वारा चेन्नई में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की सहायता से की गई थी। इस विशेष संस्थान की स्थापना का मुख्य उद्देश्य प्लास्टिक्‍स इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के विभिन्न विषयों में जनशक्ति का विकास करना था क्योंकि देश में ऐसा कोई समान संस्थान नहीं था। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) ने कार्यनिष्पादन एजेंसी के रूप में कार्य किया। 1968 और 1973 के बीच के प्रारंभिक परियोजना अवधि के दौरान, संस्थान ने परिकल्पित लक्ष्यों को प्राप्त किया और विश्‍व भर में लागू सबसे सफल यूएनडीपी के परियोजनाओं में से एक के रूप में दर्जित किया गया। आज सिपेट, रसायन और उर्वरक मंत्रालय, सरकार के तहत उच्च और तकनीकी शिक्षा के लिए एक प्रमुख शैक्षणिक संस्थान है, जो डिजाइन, कैड/कैम/सीएई, टूलींग और मोल्‍ड विनिर्माण, उत्पादन इंजीनियरिंग, परीक्षण और गुणवत्ता आश्वासन जैसे प्‍लास्टिक्‍स के सभी पहलुओं में भारत के प्लास्टिक के सभी क्षेत्रों में पूरी तरह से समर्पित हैं। पॉलिमर और संबद्ध उद्योगों की आवश्‍यकताओं की पूर्ति करने के लिए सिपेट देश भर में फैले विभिन्न स्थानों से संचालित होता है।


पॉलिमर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उच्च एवं तकनीकी शिक्षा और अनुसंधान के लिए एक प्रमुख भारत सरकार का संस्थान

स्वतंत्रता के बाद, यह चिंता का विषय बन गया कि प्लास्टिक्‍स इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी एक बढ़ता हुआ विज्ञान था और फिर भी मांग की पूर्ति करने हेतु पर्याप्त मानव संसाधन नहीं था। देश में सिपेट की तरह अनूठा संस्थान स्थापित करने के लिए आवश्‍यकता महसूस की गई और आज भी इस संस्थान का स्थान प्रमुख है। सिपेट का प्राथमिक उद्देश्य शिक्षा और अनुसंधान के संयुक्त कार्यक्रम द्वारा प्लास्टिक्‍स उद्योग के विकास में योगदान रहा है। संस्थान का विकास वर्षों से हुआ है, नवीन प्लास्टिक्‍स आधारित समाधान बनाने के उद्देश्‍य के साथ उद्योगों के साथ घनिष्ठ संबंध बना है जो संसाधन कुशल और विपणन योग्य हैं। इससे निम्‍न विषयों पर गतिविधियों और कार्यक्रमों के साथ तेज़ विकास हुआ है:

शैक्षिक
अनुसंधान
प्रौद्योगिकी सहायता
कौशल प्रशिक्षण

कैम्‍पसें

चेन्नई में हमारे पहले स्थान से, अब हमारे पास 37 स्थान हैं और 5 और स्थापना की प्रक्रिया में हैं। प्रत्येक कैम्‍पस अत्याधुनिक सुविधाओं को प्रदान करता है, पूर्व छात्रों को एक नए दिमागी हालत और एक उद्यमशीलता की भावना के साथ भेजता है। हमारे कैम्‍पस भविष्य का आविष्कार करने की कार्यशालाएं हैं, जहां अध्‍ययन का अनुवाद करने एवं अनुसंधान को कार्य में लाने हेतु छात्र पुरस्कार विजेता संकाय एवं विशेषज्ञों के साथ काम करते हैं।


मूलभूत सुविधाएं

सभी सिपेट केन्‍द्र भारत सरकार की योजना निधि सहायता के साथ डिजाइन, कैड/कैम/सीएई, टूलिंग एंड मोल्ड विनिर्माण, प्लास्टिक्‍स प्रसंस्करण, परीक्षण और गुणवत्ता आश्वासन के क्षेत्रों में उत्कृष्ट सुविधाओं के साथ अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ सुसज्जित हैं। प्लास्टिक्‍स उद्योगों की निरंतर बदलती और चुनौतीपूर्ण आवश्यकताओं के अनुसार, हम निरंतर मशीन, उपकरण और प्रौद्योगिकी का उन्नयन और आधुनिकीकरण करते हैं।


राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मान्यता

अपने अनुसंधान और विकास के लिए पॉलिमर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के ताखा क्षेत्रों और प्लास्टिक्‍स के क्षेत्र में उच्च गुणमूल्‍य शिक्षा और कौशल विकास के लिए हमने वैश्विक मान्यता प्राप्त की है।

सिपेट विशेष रूप से बेरोजगार और कम बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने तथा विभिन्न कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमों द्वारा उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सिपेट देश की पर्यावरण नीतियों के अनुसार स्थिरता और समृद्ध करने वाले संस्थान-उद्योग अंतरापृष्‍ठ को दृढ़ता से मानता है जबकि अभी भी उपयुक्त है। प्लास्टिक्‍स और प्लास्टिक कचरा प्रबंधन के प्रति पर्यावरण के मुद्दों पर जागरूकता पैदा करने में हमारा निरंतर प्रयास उद्योग द्वारा बहुत अच्छी तरह से स्वीकार किया गया है।


उद्योग संबंध

सिपेट के पास अपने व्यवसाय और उद्योग के भागीदारों के साथ एक कुशल अंतरापृष्‍ठ है। हम प्लास्टिक्‍स और संबद्ध उद्योग के लाभ के लिए डिजाइन, टूलींग, प्लास्टिक्‍स प्रसंस्करण और परीक्षण में तकनीकी / परामर्श सेवाएं प्रदान करते हैं। हम प्रौद्योगिक क्षमताओं को मजबूत करने में सबसे आगे रहे हैं और निरंतर क्षमताओं का निर्माण कर रहे हैं और उद्योग की उभरती और विकसित होती आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए अपनी विशेषज्ञता, बुद्धि और कौशल का लाभ उठा रहे हैं।

50 वर्षों में, सिपेट को डिजाइन, टूलींग, प्लास्टिक्‍स प्रसंस्करण और परीक्षण एवं गुणवत्ता आश्वासन के क्षेत्रों में हमारी प्रौद्योगिकी सहायक सेवाओं के लिए बड़ी संख्या में उद्योग ग्राहकों के साथ हमारे कार्य के लिए मान्यता प्राप्‍त हुई है। इसमें भारत और विदेश, दोनों में, सरकारी एजेंसियों के साथ-साथ सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के उद्योग शामिल हैं।


अंतिम नवीनीकरण: 22-02-2021

© सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) के स्‍वयं का विषय वस्‍तु। सर्वाधिकार सुरक्षित।

सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) द्वारा डिज़ाइन करके विकास किया गया और संधृत

Facebook Page : External website that opens in a new window    Twitter Page : External website that opens in a new window    Youtube Page : External website that opens in a new window