अवलोकन


अल्‍पकालिक कौशल विकास कार्यक्रम

कौशल और ज्ञान आर्थिक विकास और सामाजिक विकास की प्रेरक शक्ति हैं। उच्च और बेहतर कौशल वाले देश भूमंडलीकरण की चुनौतियों और अवसरों को अधिक प्रभावी ढंग से समायोजित करते हैं। कई उद्योगों में कुशल श्रमिकों की कमी भारत के भविष्य के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण और जटिल चुनौती बनकर उभर रही है। आर्थिक विकास और निवेश के इस युग में भारत के सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में कुशल व्यक्तियों की मांग तेजी से बढ़ रही है। कौशल विकास कार्यक्रमों के माध्यम से रोजगार में वृद्धि करने की आवश्यकता बढ़ रही है क्योंकि मजबूत बाजार लिंकेज, संस्थान उद्योग समन्वय, विशेष कौशल विकास, निरंतर सीखने, आदि द्वारा इसका प्रमाण दिया गया है। भारत सरकार द्वारा तैयार कौशल विकास पर राष्ट्रीय नीति का उद्देश्य बेहतर रोजगार, सुगम रोजगार प्राप्त करने और गतिशील वैश्विक श्रम बाजार में भारत की प्रतिस्पर्धा सुनिश्चित करने के लिए बेहतर कौशल, ज्ञान और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त योग्यता के साथ सशक्त कार्यबल बनाना है। सिपेट का ध्‍येय पेट्रोरसायन पर राष्ट्रीय नीति के अनुरूप है - उद्योग की मांग को पूरा करने के लिए प्रशिक्षित जनशक्ति को बढ़ाना और इस प्रकार राष्ट्र की वृद्धि की दिशा में योगदान देते हुए रोजगार में वृद्धि करना।

राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर बढ़ते प्लास्टिक्‍स और संबद्ध उद्योगों की आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए, सिपेट ने प्रशिक्षण कार्यक्रमों की एक श्रृंखला को विकसित की है। उद्योग कौशल अद्यतन कार्यक्रम के साथ व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों को जोड़ने वाली यह श्रृंखला ने हमें कार्यबल प्रशिक्षण प्रदान करने वाले एकमात्र राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त संस्थान में से एक बनाया है।

इस दिशा में, हमारे पास विभिन्न व्यावसायिक प्रशिक्षण और कौशल विकास कार्यक्रम हैं जो हम व्यक्तियों के साथ-साथ उद्योगों के कर्मचारियों के लिए भी आयोजित करते हैं। ये इन क्षेत्रों में हैं:

  • डिजाइन / टूलिंग / कैड / कैम / सी एन सी कार्यक्रम
  • उत्‍पाद विकास / प्‍लास्टिक्‍स का प्रसंस्‍करण / मशीन अनुरक्षण
  • परीक्षण एवं गुणवत्‍ता सुधार
  • वेल्डिंग एवं निर्माण
  • इलेक्ट्रिकल, इलेक्‍ट्रोनिक्‍स, हार्डवेयर एवं नेटवर्किंग
  • औद्योगिक ऑटोमेशन एवं अनुरक्षण
  • सूचना एवं संप्रेषण प्रौद्योगिकी

सिपेट केंद्रों में आयोजित ये कौशल विकास कार्यक्रम राष्ट्रीय कौशल योग्यता बनावट (एनएसक्‍यूएफ) हैं और राष्ट्रीय कौशल योग्यता समिति (एनएसक्‍यूसी) द्वारा संरेखित और अनुमोदित हैं।

राष्ट्रीय कौशल योग्यता बनावट (एनएसक्‍यूएफ): राष्ट्रीय कौशल योग्यता बनावट (एनएसक्‍यूएफ) एक गुणवत्ता आश्वासन ढांचा है जो ज्ञान, कौशल और अभिक्षमता के स्तरों की एक श्रृंखला के अनुसार सभी योग्यताएं आयोजित करता है। इन स्तरों को एक से दस तक वर्गीकृत किया जाता है और डिग्री के संरेखण द्वारा व्यावसायिक और सामान्य शिक्षा के बीच गतिशीलता को सुविधाजनक बनाया जाता है। यह राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन ढांचे के माध्यम से देश भर में प्रशिक्षण के राष्ट्रीय स्तर पर स्वीकार्य परिणामों का मानकीकरण करता है।

राष्ट्रीय कौशल योग्यता समिति (एनएसक्‍यूसी): राष्ट्रीय कौशल योग्यता समिति (एनएसक्‍यूसी) के कार्यों में एनओएस / क्‍यूपी यों को मंजूरी देना, मान्यता मानदंडों को मंजूरी देना, नुकसान वर्गों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दिशानिर्देशों को निर्धारित करना, आंतरिक एजेंसी के विवादों की समीक्षा करना और अंतर्राष्ट्रीय योग्यता ढांचे के साथ एनएसएफएफ के संरेखण शामिल हैं।


अंतिम नवीनीकरण: 22-02-2021

© सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) के स्‍वयं का विषय वस्‍तु। सर्वाधिकार सुरक्षित।

सेन्‍ट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्‍स इंजीनियरिंग एण्‍ड टेक्‍नोलॉजी (सिपेट) द्वारा डिज़ाइन करके विकास किया गया और संधृत

Facebook Page : External website that opens in a new window    Twitter Page : External website that opens in a new window    Youtube Page : External website that opens in a new window